Sunday, September 17, 2017

मेरी नज़र में बुलेट ट्रेन के मायने


मेरी नज़र में बुलेट ट्रेन के मायने।

मुझे याद है आज से बारह साल पहले जब मैं डेल्ही आया था। तब पहली बार डेल्ही मेट्रो में उद्घाटन हुआ था तब किसी कोरिन कंपनी को 10 साल के लिए इंडिया में मेट्रो चलाने उसका सारा रख रखाव रखने को दिया गया था और जो भी इनकम होनी थी वो कोरिन कंपनी को लेना था। तब सिर्फ bombardier के मेट्रो कोच थे । आज इंडिया सिस्टम को learn कर localization करने में बहुत फ़ास्ट है। आज Hundai Rohtem ओर mitsubhishi ओर bharat earth movers ओर many more मेट्रो कोचेस बना रहे है और इंडिया सऊदी में मेट्रो कोचेस ओर मेट्रो लगाने वाला देश बन गया है। ऑटोमोटिव को पीछे छोड़ मेट्रो देश मे रोजगार देने वाला एक नया ही डोमेन बन गया है।

कुछ लोग manipulating truth पेश कर रहे है बुलेट ट्रेन के बारे में।


Good News
*आज का दिन भारत के लोगों पर अगले 50 साल वर्षों के लिए कर्जदार बनायेगा*
*तो बजाओ ताली, तमाशा शुरू होने वाला है*
आज अपने अहम् की संतुष्टि के लिए आपके विकास के नाम की पर्ची फाड़ी जायेगी जिसका ऋण आपको व् आपकी आने वाली पीढ़ियों को अगले 50 साल तक चुकाना पड़ेगा।
मुझे आज तक सरकार का लॉजिक समझ नहीं आया बुलेट ट्रेन वाला
लगभग 550 किलोमीटर की दूरी है
*अहमदाबाद से मुंबई*
*1 लाख 10 हजार करोड़* रुपए का प्रोजेक्ट
*88000 करोड़* रुपए जापान देगा उधारी 0.1% ब्याज पर *50 साल* के लिए
मतलब अपने लग रहे हैं *22 हजार करोड़* रुपए
---
रेल्वे का revenue है कुछ 1 लाख 68 हजार करोड़ रुपए सालाना
जिसमें से खर्चा काट कर कुल आय है लगभग 10 हजार 500 करोड़ रुपए
------
अब 88000 करोड़ रुपए की उधारी 0.1%  ब्याज पर
मतलब
1800 करोड़ रुपए सालाना की हम उधारी चुकाएंगे
हमारे अपने जो 22000 करोड़ रुपए लगे हैं वो अलग है
तो
देखना यह है कि क्या 1800 करोड़ रुपए की कमाई भी हम कर पाएंगे इस प्रोजेक्ट से ?
मान लें एक ट्रेन में 16 डिब्बे हैं और एक डिब्बे में 72 सीट हैं तो एक बार में ट्रेन में कुल यात्रियों की संख्या हुई 72x16=1152
अब यही ट्रैन वापस आती है तो संख्या है 1152
मतलब कुल एक चक्कर में कुल यात्री हुए 2304
एक यात्री से सरकार ने अगर *1000 रू लिए तो एक दिन का हुआ 23,04,000
और एक साल का 84,09,60,000
कुल 84 करोड़ 09 लाख़ 6 हजार रू
अब अगर ट्रैन दिन में 4 चक्कर लगाती है मतलब दोनों जगह से ट्रेन सुबह भी चलेगी और शाम को  भी तो कुल आय होती है
840960000x4=
336,38,40,000
मतलब 336 करोड़ 38 लाख 40 हजार रुपये, जिसमे उसके संचालन का खर्च अलग है, मसलन ड्राइवर और गार्ड की तनख्वाह, रखरखाव, मेंटेनेंस आदि का खर्च।
जिसमे ब्याज सिर्फ ब्याज के भरने हैं 1800 करोड़ रुपये और उसके बाद मूलधन और उसके बाद कमाई की सोचना।
और अपने जो 22000 करोड़ गायब हो गए उसे तो भूल ही जाना।
क्या आपको लगता है कि आप
साल भर में 336 करोड़ रू कमा कर 1800 करोड़ का ब्याज भर सकते हैं, और 88000 करोड़ का कर्ज उतार सकते हैं और उसके बाद कुछ कमा सकते हैं वो भी अगके 50 साल के बाद,
तो यकीन मानिए *आपसे बड़ा बेवकूफ इस दुनिया में कोई नही है*
*किराया अगर 3000 भी कर दे तब भी 1008 करोड़ ही इकट्ठा होगा ।
एक आम आदमी की नजर से ।
Post a Comment